• Breaking News
    Loading...

    मुख्य संपादक : सुधेन्दु ओझा

    मुख्य कार्यालय : सनातन समाज ट्रस्ट (पंजीकृत), 495/2, द्वितीय तल, गणेश नगर-2, शकरपुर, दिल्ली-110092

    क्षेत्रीय कार्यालय : सी-5, UPSIDC इंडस्ट्रियल एरिया, नैनी, इलाहाबाद-211008, (Call :- 9650799926/9868108713)

    samparkbhashabharati@gmail.com, www.sanatansamaj.in

    (सम-सामयिक विषयों की मासिक पत्रिका, RNI No.-50756)

    Thursday, 2 March 2017

    दिल्ली विश्वविद्यालय - गुरमेहर कौर विवाद

    दिल्ली विश्वविद्यालय - गुरमेहर कौर विवाद

    रामजस कॉलेज विवाद मामले में गुरमेहर कौर की पोस्ट को लेकर विवाद अभी भी थम नहीं रहा है। अब उनके समर्थन में बैडमिंटन प्लेयर ज्वाला गुट्टा भी आ गई हैं। हालांकि, खुद विवाद के बीच दिल्ली को छोड़कर पंजाब अपने घर चली गई हैं। इस दौरान उनकी की गई 'मेरे पिता को पाकिस्तान ने नहीं, बल्कि जंग ने मारा' तख्ती वाली पोस्ट ने सोशल मीडिया पर लोगों को दो खेमों में बांट दिया है। एक तरफ जहां सहवाग, योगेश्वर, बबीता फोगाट और रणदीप हुड्डा जैसी हस्तियों ने उनका विरोध किया। वहीं, जावेद अख्तर, गौतम गंभीर जैसे लोगों ने सपोर्ट करते हुए कहा कि उसे अपनी बात कहने का हक है।

    1. कौन हैं गुरमेहर?
    - गुरमेहर लेडी श्रीराम कॉलेज में इंग्लिश लिटरेचर की स्टूडेंट हैं। वे मूल रूप से जालंधर की रहने वाली हैं। पिता कैप्टन मंदीप सिंह कश्मीर में राष्ट्रीय राइफल्स के कैम्प पर 1999 में आतंकी हमले में शहीद हो गए थे। उस वक्त गुरमेहर महज 2 साल की थीं।
    2. विवाद में गुरमेहर की एंट्री कैसे हुई?
    - दिल्ली के रामजस कॉलेज में एक सेमिनार होने वाला था। इसमें जेएनयू के स्टूडेंट लीडर उमर खालिद और शहला राशिद को इनवाइट किया गया था। ABVP ने इसका जमकर विरोध किया, क्योंकि खालिद पर जेएनयू में देशविरोधी नारेबाजी करने का आरोप है।
    -
    इसके बाद AISA और ABVP के सपोर्टर्स के बीच भारी हिंसा हुई। कॉलेज एडमिनिस्ट्रेशन को सेमिनार कैंसल करना पड़ा।
    - इस कॉन्ट्रोवर्सी में गुरमेहर की एंट्री तब हुई, जब उन्होंने 22 फरवरी को अपना फेसबुक प्रोफाइल पिक्चर बदला और सेव डीयू कैम्पेनशुरू किया।
    - वे एक तख्ती पकड़ी हुई नजर आईं। #StudentsAgainstABVP हैशटैग के साथ लिखा- "मैं दिल्ली यूनिवर्सिटी में पढ़ती हूं। ABVP से नहीं डरती। मैं अकेली नहीं हूं। भारत का हर स्टूडेंट मेरे साथ है।"
    3. ABVP के खिलाफ नहीं, बल्कि PAK के बारे में गुरमेहर का कौन-सा पोस्टर सबसे ज्यादा वायरल हुआ?
    - दरअसल, पिछले साल 28 अप्रैल को गुरमेहर कौर ने सोशल मीडिया पर चार मिनट का वीडियो अपलोड किया था। इसमें उन्होंने एक-एक कर 36 पोस्टर दिखाए थे। लेकिन पोस्टर नंबर 13 वायरल हो गया। इसमें उन्होंने लिखा था कि पाकिस्तान ने मेरे पिता को नहीं मारा, बल्कि जंग ने मारा है। जब गुरमेहर ने एबीवीपी के खिलाफ कैम्पेन शुरू किया तो ट्रोलर्स ने उनके इसी पोस्टर नंबर 13 को वायरल कर दिया।
    - बाद में गुरमेहर ने यह आरोप भी लगाया कि उन्हें एबीवीपी की ओर से रेप की धमकियां मिल रही हैं।
    4. गुरमेहर के लिए दो खेमों में कब बंटे लोग?
    - "मेरे पिता को पाकिस्तान ने नहीं, बल्कि जंग ने मारा है।" वाली पोस्ट ट्रोल होने के बाद सबसे पहले सहवाग ने एक ट्वीट किया और गुरमेहर के अंदाज में एक तख्ती वाली पोस्ट शेयर की। इस पर लिखा था, "दो ट्रिपल सेन्चुरी मैंने नहीं मारी थी, यह मेरे बैट ने लगाई थी।"
    - सहवाग की पोस्ट को गुरदीप हुड्डा ने सपोर्ट किया। इसके बात सोशल मीडिया पर कुछ लोग गुरमेहर के सपोर्ट में आ गए और कुछ विरोध में चले गए।
    5. कौन सपोर्ट में आए और कौन विरोध में?
    - वीरेंद्र सहवाग, योगेश्वर दत्त, बबीता फोगाट, रणदीप हुडा, किरन रिजिजु जैसे कई लोग उनके खिलाफ बोले। वहीं, ज्वाला गुट्टा, जावेद अख्तर, गौतम गंभीर, राहुल गांधी और अरविंद केजरीवाल जैसे नेताओं ने सपोर्ट किया।
    6. गुरमेहर ने कैम्पेन क्यों छोड़ा? वे अभी कहां हैं?
    - विवाद बढ़ने के बाद गुरमेहर को सोशल मीडिया पर रेप की धमकी मिलने लगीं। शिकायत वुमन कमीशन तक पहुंची। पुलिस ने इस मामले में एफआईआर दर्ज की। साथ ही उन्हें पूरी सिक्युरिटी देने का भरोसा दिलाया। मंगलवार को वे दिल्ली छोड़कर जालंधर अपने घर चली गईं।
    7 . अब क्या करना चाहती हैं गुरमेहर
    -मंगलवार को दिल्ली से जालंधर पहुंचकर उन्होंने मीडिया से कहा- " अब मैं कॉन्ट्रोवर्सी से बचना चाहती हूं। आगे दिल्ली जाकर पढ़ाई करना चाहती हूं। उन लोगों का शुक्रिया, जिन्होंने मेरा साथ दिया। विरोध करने वालों से नहीं डरती हूं। मैं पॉलिटिक्स में नहीं जाना चाहती हूं।"

     


    No comments:

    Post a Comment